अब तक के घोटालों की हो सीबीआई से जांचः उक्रांद

0

अब तक के घोटालों की हो सीबीआई से जांचः उक्रांद

देहरादून, उत्तराखंड क्रांति दल के केन्द्रीय महामंत्री डी बी चन्द ने कहा कि राज्य गठन से लेकर अब तक उत्तराखंड प्रदेश में हुए घोटालों की सीबीआई से जांच करानकी ज़रूरत है और इसके लिए प्रदेश सरकार को त्वरित से कार्यवाही किये जाने की आवश्यकता है।
देहरादून के अग्रसैन चैक स्थित एक होटल में पत्रकारों से रूबरू होते हुए मुंबई से पहुँचे दल के केन्द्रीय महामंत्री डी बी चन्द ने बताया कि 2002 से 2007 तक प्रदेश में कांग्रेस की सरकार थी और 2007 में भाजपा सरकार तो उन्होंने कांग्रेस सरकार के 56 घोटालों को चिन्हित किया और उनकी जांच बैठाई, 2007 से 2012 तक चली भाजपा सरकार ने एक भी घोटाले का पर्दाफाश नहीं किया और इसी तरह से 2007 से 2012 तक रही भाजपा सरकार में कुंभ घोटाला, स्ट्रजिया घोटाला, आपदा राहत घोटाला आदि अनेक घोटाले हुए है जिन पर कांग्रेस सरकार ने जांच बैठाई लेकिन आज तक किसी के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं हुई है। उनका कहना है कि इससे स्पष्ट होता है कि दोनों राष्ट्रीय दल प्रदेश को लूटने का कार्य कर रहे है।
सभी घोटालों की सीबीआई से जांच कराये जाने की आवश्यकता है और दोषियों को दंडित किया जाये।  दल इसके खिलाफ जनांदोलन करेगा। वर्ष 2013 की आपदा में मृत व्यक्तियों के कंकाल तीन वर्ष बाद प्राप्त हो रहे है और यह कांग्रेस सरकार व प्रशासनिक व्यवस्था की पोल खोलने के लिए काफी है। इस मामले को गंभीरता से लेने की जरूरत है और एक व्यापक स्तर पर सर्च आपरेशन चलाया जाना चाहिए जिससे कोई संदेह शेष न रहे,भाजपा को इस पर राजनीति करने के बजाय सहयोग करना चाहिए। उन्होंने कहा कि छूटे हुए वास्तविक राज्य आंदोलनकारियों के चिन्हिकरण की कार्यवाही शीघ्र ही शुरू की जाये और नवगठित राज्य में सभी प्रस्तावित जिलों का शीघ्र ही गठन किया जाना चाहिए। एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने बताया कि दूसरे पंवार गुट से उक्रांद का कोई लेना देना नहीं है और चुनाव आयोग ने पुष्पेश त्रिपाठी के नेतृत्व वाले दल को ही असली माना है। उनका कहना है कि दल तेजी के साथ उभर रहा है और आने वाले विधानसभा चुनाव में दल के युवा प्रत्याशी जीत कर विधानसभा जायेंगें और प्रदेश के विकास में अपना अहम योगदान देंगें। इस अवसर पर वार्ता में सी एस रजवार, बहादुर सिंह रावत, चामू सिंह राणा, अनिल डोभाल आदि मौजूद थे।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.