TSR ‘सरकार’ के तेवर सख्त, ‘एक्शन सी.एम’ से शिक्षकों में खौफ़

हिमांशु पैन्यूली, 

देहरादून,उत्तराखंड राज्य में सूबे के नवनिर्वाचित मुखिया का आजकल चहु ओर आक्रामक रवैया देखने को मिल रहा है, नए मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने जब से सूबे की कमान संभाली है, तब से ही उन्हें “TSR सरकार” और “एक्शन सीएम” कहा जाने लगा है, धड़ा धड़ बेबाक अंदाज़ में फ़ैसले लिये जा रहे है,राज्य में फैले भ्रष्टाचार को जड़ से मिटाने के लिए वह हर संभव प्रयास करते नज़र आ रहे है, यही कारण है कि राज्य के शिक्षा विभाग के शिक्षकों को TSR सरकार के एक्शन का डर बेहद सताने लगा है, शिक्षा विभाग के हर उस शिक्षक पर TSR सरकार की नज़र गड़ी हैं जो की जाली प्रमाण-पत्र अथुवा फ़र्ज़ी दस्तावेज़ों के सहारे शिक्षक बने बैठे सरकारी तनख्वा खा पचा रहे है। गौरतलबहै कि शिक्षा विभाग को मिली शिकायत के अनुसार कई शिक्षकों ने जाली प्रमाण पत्र देकर नौकरियाँ पायी है ऐसे ही क़रीब 78 शिक्षकों की जांच के बाद 34 को नौकरी से निकाल दिया गया और पूरे मामले की जांच विजलेंस विभाग को सौंप दी गई, वहीँ शिक्षा विभाग के अधिकारियों की मानें तो जो भी शिक्षक दोषी साबित होगा उसे स्कूल के बजाए जेल जाना होगा, साथ ही सरकारी स्कूलों में बायोमीट्रिक मशीनों लगायी जा रही हैं, ताकि शिक्षकों के आने-जाने का सही समय दर्ज हो सके, सीएम के सख्ती दिखाते ही मानो शिक्षा विभाग का निष्क्रिय सिस्टम सक्रिय हो चला है। हालांकि पूर्व से ही सरकारों पर भी समय समय पर उँगलियाँ उठती रही है कि जो कुछ भी विभागों में होता है वो सरकार की शह पर ही होता हैं, लेकिन TSR सरकार अब पूरी तरह से इस सिस्टम पर शिकंजा कस शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर करने हेतु हर संभव सुधार करने की जद्दोजहद में नज़र आ रही है यहाँ तक की अब उन शिक्षकों पर भी नज़र रखी जा रही है जो आए दिन ड्यूटी से तो गायब रहते हैं, मग़र जंत जुगाड़ से अपनी हाज़री पूरी लगा लेते हैं, जिले के हर मिडिल स्कूल में बायोमीट्रिक मशीनें लगायी जा रही हैं,ताकि सबकी सही हाज़री मिल सके अभी तक लगभग 97 स्कूलों में मशीन लग चुकी हैं और करीबन 11 में लगनी बाक़ी है। अभी जुम्मा जुम्मा TSR सरकार को सत्ता संभाले भले ही कम वक्त हुआ है लेकिन सरकार द्वारा तत्काल लिए फ़ैसलों और निणर्य से साफ़ है कि TSR सरकार एक्शन सरकार है, अब तो बस देखना यह होगा की TSR सरकार के शक्त तेवर से विभागों का कितना सिस्टम सुधरेगा फ़िलहाल तो इस सवाल का उत्तर अभी भविष्य के गर्व में है जो बढ़ते समय के साथ ही सबके सामने आएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *