पीएम मोदी के खिलाफ न्यायालय जायेगा :- जनसंघर्ष मोर्चा

पी0एम0ओ0 व निर्वाचन आयोग के खिलाफ भी दर्ज करवायेंगे मुकदमा।
 देश का पी0एम0 ही कानून तोड़ेगा तो कौन करेगा कानून की रखवाली।
 प्रेस काॅन्फ्रेंस तक की नहीं दी आयोग ने छूट तो पी0एम0 की रैली/जनसभा में कहाॅं था आयोग?

देहरादून- स्थानीय होटल में पत्रकारों से वार्ता करते हुए जी00एम0वी0एन0 के पूर्व उपाध्यक्ष एवं जनसंघर्ष मोर्चा अध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी ने कहा कि 10 फरवरी 2017 को पी0एम0 श्री मोदी की हरिद्वार रैली/जनसभा की अनुमति न होना कानून का सरासर उल्लंघन है। नेगी ने हैरानी जतायी कि पी0एम0 के किसी भी कार्यक्रम हेतु पी0एम0ओ0 (प्रधानमन्त्री कार्यालय) को रैली से सम्बन्धित अनुमति की अनुज्ञा का संज्ञान लेने के बाद ही कार्यक्रम तय करना चाहिए था लेकिन पी0एम0 द्वारा अपरिपक्वता का परिचय देते हुए रैली में शिरकत की गयी। उक्त सम्पन्न हुई रैली में पी0एम0ओ0 के साथ-साथ निर्वाचन आयोग भी जिम्मेदार है तथा दोनों की लापरवाही को लेकर इनके खिलाफ भी मामला बनता है।
नेगी ने कहा कि निर्वाचन आयोग ने श्री मोदी की रैली/जनसभा से पहले अनुमति का संज्ञान क्यों नहीं लिया तथा अनुमति न होने की दशा में रैली क्यों सम्पन्न होने दी। मोर्चा ने हैरानी जतायी कि पी0एम0 जैसे जिम्मेदार व्यक्ति आचार संहिता की धज्जियाॅं उड़ाने में लगे हैं तो इस देश के आम आदमी का क्या होगा?
नेगी ने कहा कि मोर्चा द्वारा चुनाव के दौरान देहरादून में 5-6 लोगों की प्रेस काॅन्फ्रेंस आयोजित की गयी थी, जिस पर आयोग ने कहा था कि इसकी अनुमति आवश्यक है तथा धारा 144 प्रभावी है, लेकिन इतनी बड़ी रैली के लिए क्या अनुमति की आवश्यकता नहीं थी? बड़ा दुर्भाग्य पूर्ण है कि निर्वाचन आयोग उक्त मामले में जिला स्तरीय नेताओं पर मामला दर्ज कर अपनी जिम्मेदारी से बच रहा है।
जनसंघर्ष मोर्चा आचार संहिता उल्लंघन के मामलों में पी0एम0 श्री मोदी, पी0एम0ओ0 तथा निर्वाचन आयोग के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने को लेकर न्यायालय जायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *