"> शीतकाल के लिए बाबा केदार के कपाट आज से हुए बंद » PressMirchi
 

शीतकाल के लिए बाबा केदार के कपाट आज से हुए बंद

शीतकाल के लिए बाबा केदार के कपाट आज से हुए बंद

kedar-1

हरिद्वार सांसद डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक ने किए भगवान केदार के दर्शन

 

रुद्रप्रयाग/ देहरादून,प्रदेश के मुख्यमंत्री हरीश रावत आज केदारनाथ कपाट बन्द होने के अवसर पर केदारनाथ धाम पहुँचे।क़रीब 7.30 बजे मुख्यमंत्री केदारनाथ हैलीपैड पहुँचे, जिसके बाद वह मंदिर में गए। कपाट बंद होने बाद मुख्यमंत्री ने डोली को अपने कंधो पर रखकर भोले बाबा को केदारनाथ धाम से विदा किया ठीक आठ बजे भगवान की सुसज्जित डोली को पारम्परिक वाद्ययंत्रों और गढ़वाल राइफल के बैंड की मधुर धुन के साथ मंदिर की परिक्रमा करते हुए छह माह के लिये उखीमठ विदा किया गया। इस अवसर पर उनके साथ भाजपा से पूर्व सी एम एवं हरिद्वार सांसद डॉ रमेश पोखरियाल निशंक भी मौजूद रहे।इस अवसर रावत ने कहा की आपदा के बाद एक बार फिर केदारनाथ यात्र पटरी पर लौटने लगी है और हमारा जो मकसद था वह पूरा हुआ।वर्ष 2017 में दुगनी संख्या में श्रद्धालु बाबा केदार धाम पहुंच सके इसके लिए सरकार और बेहतर ब्यवस्थाये जुटाएगी।

kedar-2

रावत ने कहा की इस बार तीन लाख से अधिक श्रद्धालुओ ने बाबा केदार के दर्शन किये जो की सरकार की एक बड़ी सफलता है। प्रशासन,पुलिस,एनडीआरएपफ सहित सभी यात्रा से जुड़े  विभागों ने बेहतर कार्य किया और उसकी बदौलत आज केदारनाथ यात्रा फ़िर से पुराने स्वरूप् में आ चुकी है।

सीएम हरीश रावत ने सभी श्रद्धालुओं को शुभकामना देते हुए कहा की अगली यात्रा वह और अधिक संख्या में बाबा केदार के दर्शनों को आये सरकार उन्ह हर बेहतर सुविधा मुहैया करवाएगी। केदारनाथ धाम में चल रहे पुनर्निर्माण कार्यो को भी जल्द से जल्द पूरा किया जायेगा और साथ ही स्थानीय पुरोहितों और जनता की हर समस्या का निस्तारण किया जायेगा।

वहीँ इस अवसर पर पहुँचे डॉ रमेश पोखरियाल निशंक ने  कि अभी भी केदारनाथ धाम में बहुत काम होना शेष है। साथ ही पूरी घाटी में अब तक पुनर्वास कार्य प्राथमिकता के साथ करने की आवश्यकता है। ताकि आपदा प्रभावित गांवों एवं उनके निवासियों का जीवन सुचारू हो सके।आपको बता दे कि डॉ० रमेश पोखरियाल निशंक ही वह पहले व्यक्ति थे जो वर्ष 2013 की आपदा के तत्काल बाद सबसे पहले पहुँचे थे और उन्हीं के द्वारा राज्य और केन्द्र सरकार को सबसे पहले केदारनाथ में आयी इस भयंकर प्रलय की भयावहता की जानकारी दी थी। इसके पश्चात डॉ० निशंक द्वारा केदारनाथ आपदा पर एक पुस्तक केदारनाथ आपदा पर एक पुस्तक प्रलय के बीचः केदारनाथ आपदा भी लिखी गई जिसे खूब सराहा गया

अब शीतकाल के छह माह सभी श्रद्धालु ओम्कारेश्वर मंदिर में भोले बाबा के दर्शनों को आएं और पुण्य अर्जित करे। वही डोली विदाई के बाद सीएम हरीश रावत कुछ समय तक केदारनाथ में रुके और लोगो से मिले। उन्होंने वहाँ हो रहे निर्माण कार्यो का भी जायज़ा लिया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री हरीश रावत,हरिद्वार सांसद डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक,केन्द्रीय मंत्री उमा भारती,जिलाधिकारी राघव लंगर, पुलिस अधीक्षक श्री मीणा तथा शासन प्रशासन के अधिकारी सहित अनेक जन प्रतिनिधियों एवं देश विदेश से आए सैकड़ों श्रद्धालु, रावल भमा शंकर लिंग, मुख्य पुजारी शंकर लिंग,उपस्थित थे।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

सीएम ने बीजेपी और केंद्र सरकार के खिलाफ साधा निशाना

Tue Nov 1 , 2016
सीएम ने बीजेपी और केंद्र सरकार के खिलाफ साधा निशाना केन्द्र पर बजट रोकने का लगाया आरोप: सीएम दलबदल की हितैषी भाजपाः सीएम प्रायश्चित यात्रा करे बीजेपी : सी एम देहरादून। कांग्रेस के लोकतंत्र बचाओ और संविधान बचाओ यात्रा का सीएम हरीश रावत ने किया स्वागत, सीएम आवास में पत्रकारों से […]
%d bloggers like this: