“कमल का फूल मा सरस्वती कु वास, जीना जी करला सल्ट कु विकास”

https://youtu.be/6pNTb9xGVb8

विडियो साभार :- कैलाश जोशी (अकेला)

 

हिमांशु पैन्यूली

यूँ तो देवभूमी उत्तराखंड में राजनीती और नेताओ के आचरण पर लोक गायकों द्वारा व्यंगात्मक गानें आपने काफ़ी सुनें होंगे जैसे ” हाथ न व्हिस्की पिलायी फूल न पिलायी रम” , “नौछम्मी नरेणा”, “चुपरा छोरों हला न करा मंत्री दीदा स्येनु छा बल उत्तराखंड कु विकास सुपणों मा होणु छा” इत्यादि लेकिन, आज हम आपको एक स्थानियाँ नेता के लिये लोगों द्वारा गायन और नृत्य का वीडियो दिखाएंगे जो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

जी हाँ अब तक आपने जो भी गाने सुने है वो यहां की राजनीती और नेताओं पर कटाक्ष ही सुने होंगे लेकिन आज का ये वीडियो भी एक स्थानीय नेता के लिए ही गाया गया है लेकिन ये किसी गायक ने नहीं गया बल्की एक नेता के समर्थन में उसके लिए ये स्थानीय लोगों ने गाया और स्थानीय नृत्य की भी झलक दिखलायी है। इसे लोगों का अपने नेता के प्रति स्नेह भी कह सकते है जी हाँ अल्मोड़ा ज़िले की साल्ट विधानसभा में एक विधयाक ऐसा भी है जो की युवा होने के साथ साथ जनता के बीच अपनी ऐसी पहचान बना चुका है कि जनता ने अपने विधायक के चुनाव प्रचार को किस अंदाज में किया वो आज इस वीडियो के माध्यम से आप के सामने है। तीसरी बार विधायक का चुनाव लड़ रहे सुरेन्द्र सिंह जीना का स्थानीय लोगो ने उनके समर्थन में अपना क्षेत्रीय गान झोड़ा गाकर एक निराले अंदाज में किया है प्रचार। यूँ तो अमूमन आपने चुनावों में वोटरों को लुभाने के भाँति भाँति प्रकार देखे होंगे लेकिन इस विडियो में उत्तराखंड की लोक संस्कृति की झलक बखूबी दिख रही है। झोड़ा के बोलों पर यदि गौर करें तो लोग गा रहे है कि ” कमल का फूल मा सरस्वती कु वास, जीना जी करला सल्ट विकास”  यह लोगो का अपने नेता के प्रति ये स्नेह और प्रचार का अंदाज वाक़ई अद्भुद एवं सराहनीय है।बहरहाल नेता जी की क़िस्मत का फैसला तो अब आने वाली 11 मार्च को होगा जो फ़िलहाल अभी भविष्य के गर्भ में है लेकिन इस वीडियो से उत्तराखंड की संस्कृति की झलक बेहद उम्दा अंदाज़ में दिख रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *