जानें क्या है लौकी के जूस की विशेषता 

gourd juice
Advertisements
Loading...

                                                                                                    [the_ad id=”14353″]

Loading...

क्षमता से ज्यादा काम और मानसिक तनाव के कारण कई लोगों को दिल से जुड़ी बीमारियां परेशान करने लगती हैं। इसलिए हर दिन कोई भी एक नया व्यक्ति दिल के रोग से पीड़ित हो जाता है। दिल से जुड़ी बड़ी बीमारियों का इलाज बायपास सर्जरी और एन्ज्योग्राफी से होता है। यदि आप इन रोगों से बचना चाहते हैं तो लौकी का रस आपकी बहुत मदद कर सकता है। यदि आपको दिल से संबंधित कोई भी बीमारी हो तो लौकी का रस/जूस जरूर पिएं।

Loading...

                             लौकी का जूस बनाने की विधि-

 

सबसे पहले लौकी को धो लें फिर उसे कद्दूकस कर लें। कद्दूकस की हुई लौकी में तुलसी के सात पत्ते और पुदीने की पांच पत्तियां डाल कर मिक्सर में पीस लें। रस की मात्रा कम से कम 150 ग्राम होनी चाहिए। अब इस रस में बराबर मात्रा में पानी मिलाकर तीन चार पिसी काली मिर्च और थोड़ा सा सेंधा नमक मिलाकर पिएं।

Loading...

 

                                 जूस को पीने की विधि-

 

 यह रस किसी भी दिल के मरीज को दिन में तीन बार सुबह, दोपहर और शाम को खाने के बाद पिलाना चाहिए। शुरूआत के दिनों में रस कुछ कम मात्रा में लें और जैसे ही वह अच्छे से पचने लगे इसकी मात्रा बढ़ा दें।

Loading...

                               लौकी जूस की विशेष-

 लौकी का रस पेट के विकारों को मल के द्वारा बाहर निकाल देता है। जिसके कारण शुरूआत में पेट में गड़गड़ाहट और खलबली मच सकती है, इससे घबराएं नहीं कुछ समय बाद यह अपने आप ठीक हो जाएगा। इस रस को पीने के साथ मरीज का अपनी पहले से चल रही दवाईयों को भी चालू रखना चाहिए।

[epic_block_2 header_icon=”fa-arrow-circle-down” first_title=”Read More” number_post=”30″ post_offset=”1″ date_format=”ago” pagination_mode=”scrollload”]

Loading...
Digiprove sealCopyright secured by Digiprove © 2020 Press Mirchi
Loading...
All Rights Reserved

Loading...

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: