उत्तराखंड से शुरू हुई बगावत की लहर पहुँची उत्तर प्रदेश

उत्तराखंड से शुरू हुई बगावत की लहर पहुँची उत्तर प्रदेश

रीता को भाजपा में ले जाने में रही विजय की भूमिका  

भाई बहन में से किसी एक को मिल सकती है बड़ी जिम्मेदारी

हिमांशु पैन्यूली, देहरादून,उत्तराखंड में कांग्रेस के ख़िलाफ़ शुरू हुई बगावत की लहर अब उत्तर प्रदेश तक जा पहुँची है।यूपी कांग्रेस की पूर्व अध्यक्षा रीता बहुगुणा को भाजपा में शामिल कराने के सूत्रधार उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा ही माने जा रहे है।
कांग्रेस में बगावत की शुरूवात उत्तराखंड में उस वक्त हुई थी जब पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा की अगुवाई में राज्य के नौ विधायकों ने मुख्यमंत्री हरीश रावत की सरकार के ख़िलाफ़ मोर्चा खोल लिया था। बाद में विजय बहुगुणा समेत सभी बागी विधायकों को अपनी विधानसभा सदस्यता से हाथ धोना पड़ा था।जिसके बाद में सोमेश्वर की विधायक रेखा आर्या ने भी कांग्रेस से नाता तोड़ लिया और उनकी सदस्यता भी चली गई। केंद्र सरकार ने राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू कर दिया,लेकिन हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद राष्ट्रपति शासन हटा दिया गया। बहुगुणा समेत सभी बागी भाजपा में शामिल हो गए। इस बीच कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश की बागडोर उत्तराखंड से राज्यसभा सदस्य राज बब्बर को सौंप दी। दरअसल विजय बहुगुणा को मनाने की जिम्मेदारी कांग्रेस ने उनकी बहन रीता बहुगुणा को दी थी,जिसे वह चाह कर भी पूरी नहीं कर सकीं।
सूत्रों की मानें तो भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने उत्तराखंड के बागी नेता विजय बहुगुणा के जरिए ही रीता बहुगुणा से बातचीत की। अब जब यूपी और उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव नजदीक हैं तो रीता बहुगुणा ने कांग्रेस को अलविदा कहते हुए भाजपा में अपना रुझान ज़ाहिर किया । सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के अनुसार रीता बहुगणा को भाजपा में ले जाने के मुख्य सूत्रधार विजय बहुगुणा के होने को ही माना जा रहा है।चुनाव से ऐन मौके पूर्व यूपी कांग्रेस की पूर्व अध्यक्षा रीता बहुगुणा का भाजपा में शामिल  होना यूपी कांग्रेस को एक बड़ा झटका साबित होगा।यूँ तो रीता बहुगुणा जहां भाजपा में शामिल होने के पीछे राहुल गांधी के नेतृत्व को वजह बता रही हैं,वहीं यूपी कांग्रेस के अध्यक्ष राजबब्बर बहुगुणा खानदान को दगाबाज बता रहे हैं।लेकिन जो भी हो रीता का यूपी कांग्रेस का दामन छोड़ना यूपी कांग्रेस के लिये एक बड़ा नुक्सान साबित होगा
वहीँ भाजपा ने उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश में अभी तक चुनावी चेहरा घोषित नहीं किया है। उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश से कांग्रेस के दो बड़े चेहरे भाजपा में आने के बाद यह माना जा रहा है कि भाई बहन में से किसी एक को बड़ी जिम्मेदारी भाजपा सौंप सकती है।
गौरतलब है कि उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा ने अपने समर्थक विधायकों के साथ राज्य की कांग्रेस सरकार गिराने की कोशिश भाजपा के साथ मिल कर की थी, लेकिन उस वक्त वह अपने मकसद में कामयाब नहीं हो पाए थे। हालांकि उनका राजनीतिक करियर दाव पर लग गया है। अब यूपी कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष एवं विजय बहुगुणा की बहन रीता बहुगुणा भी कांग्रेस छोड़ कर भाजपा में शामिल हुई हैं। माना जा रहा है कि दोनों प्रदेशों के कद्दावर नेताओं के भाजपा में जाने के बाद किसी न किसी को भाजपा चुनाव में बड़ी जिम्मेदारी सौंप सकती है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

पुलिस शहीद स्मृति दिवस शहीद पुलिसकर्मीयों को दी श्रद्धांजलि

Fri Oct 21 , 2016
पुलिस शहीद स्मृति दिवस शहीद पुलिसकर्मीयों को दी श्रद्धांजलि देहरादून,पुलिस शहीद स्मृति दिवस के अवसर पर पुलिस लाईन देहरादून में एक श्रृद्धांजलि कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें मुख्यमंत्री हरीश रावत मुख्य अतिथि के रुप में तथा गृहमंत्री प्रीतम सिंह विशिष्ट अतिथि,सांसद टिहरी श्रीमती माला राज्य लक्ष्मी, मंत्री दिनेश अग्रवाल, […]
%d bloggers like this: