"> दून रेलवे स्टेशन की बदलेगी तस्वीर » PressMirchi
 

दून रेलवे स्टेशन की बदलेगी तस्वीर

देहरादून। दून रेलवे स्टेशन का जल्द ही कायाकल्प होगा, जिसके लिए मुख्य कार्यकारी अधिकारी स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट दिलीप जावलकर रेलवे अधिकारियों के साथ बैठक की। शुक्रवार को सचिवालय में भारतीय रेलवे के पदाधिकारियों के साथ देहरादून रेलवे स्टेशन चौराहे पर ट्रैफिक की समस्या के निराकरण तथा सौन्दर्यीकरण के सम्बन्ध में बैठक लेते मुख्य कार्यकारी अधिकारी स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट दिलीप जावलकर।
मुख्य कार्यकारी अधिकारी स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट दिलीप जावलकर ने शुक्रवार को सचिवालय में भारतीय रेलवे के पदाधिकारियों के साथ देहरादून रेलवे स्टेशन चौराहे पर ट्रैफिक की समस्या के निराकरण तथा सौन्दर्यीकरण के सम्बन्ध में बैठक की। जावलकर ने कहा कि सर्वप्रथम देहरादून रेलवे जंक्शन में सुधार की शीघ्र आवश्यकता है। बैठक में इस बात पर सहमति बनी की रेलवे जंक्शन में सुधार किया जायेगा जिसका व्यय एमडीडीए द्वारा वहन किया जायेगा। रेलवे स्टेशन में स्थित लक्खीबाग पुलिस चौकी का किसी अन्य उचित स्थान पर स्थानन्तरण किया जायेगा। परिवहन विभाग के बस स्टेशन के सम्बन्ध में शासन स्तर पर निर्णय लिया जायेगा।
बैठक में देहरादून रेलवे स्टेशन पर मल्टी लेवल पार्किंग और काम्प्लेक्स के निर्माण के लिए आईआरसीटीसी और रेलवे से अनुरोध किया गया। स्मार्ट सिटी सीईओ ने कहा कि यदि रेलवे अकेले इस कार्य को नहीं करना चाहता तो स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में इस कार्य को रेवेन्यू शेयरिंग के आधार पर किया जा सकता है। इस मल्टीपरपज कॉम्पलेक्स प्रस्तावित में फूड कोर्ट, शॉपिंग तथा पार्किग जैसी सभी सुविधाएं होगी। जावलकर ने कहा कि प्रस्तावित मल्टीपरपज कॉम्पलेक्स में कम से कम 500 वाहनों के लिए पार्किंग सुविधा की व्यवस्था की जाय। रेलवे स्टेशन तथा चौराहे पर इलैक्ट्रिक पॉल्स तथा तारो को हटाने या अंडरग्राउन्ड करने की योजना पर चर्चा की गई। बैठक में डिवीजनल रेलवे मैनेजर मुरादाबाद एके सिंघल, एमडीडीए उपाध्यक्ष विनय शंकर पाण्डेय, एमडीडीए सचिव पीसी दुमका, ट्रांसपोर्ट प्लानर एमडीडीए जगमोहन सिंह तथा रेलवे व शासन के अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

आयुर्वेदिक औषधियों में गम्भीर शोध की आवश्यकता: राज्यपाल

Fri Sep 15 , 2017
देहरादून। राज्यपाल डॉ. कृष्ण कांत पाल ने कहा है कि हर्बल उत्पादों के समुचित क्वालिटी कंट्रोल, गहन शोध व विश्वसनीय चिकित्सकीय परीक्षण द्वारा आयुर्वेद को विश्व स्तर पर व्यापक पहचान दिलाई जा सकती है। राज्यपाल, इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ पैट्रोलियम, देहरादून में उत्तराखण्ड आयुर्वेद विश्वविद्यालय द्वारा ‘‘रिसेंट एडवांसेस इन आयुर्वेदिक हर्बल […]
%d bloggers like this: