जिलाधिकारी रविनाथ रमन अधिकारियों की बैठक लेते हुए।

चिन्हित स्थानों में ही पटाखों की दुकानों के लिए लाइसेन्स निर्गत किये जायेंगेः डीएम

देहरादून, । दीपावली के त्योहार के अवसर पर अस्थाई आतिशबाजी की दुकान लगाने की अनुमति हेतु दिये जाने वाले लाईसेन्स एवं खुले स्थानों में लागायी जाने वाले आतिशबाजी की दुकानों के लिए स्थान निर्धारित करने के लिए आज कलक्ट्रेट सभागार में जिलाधिकारी रविनाथ रमन की अध्यक्षता में बैठक आयोजित की गई।
बैठक की अध्यक्षता करते हुए जिलाधिकारी ने उपस्थित अधिकारियों को देहरादून शहर में आतिशबाजी की दुकानें लगाने के लिए स्थानों के चिन्हिकरण करने के निर्देश दिये। उन्होंने स्पष्ट किया कि चिन्हित स्थानों में ही पटाखों की दुकानों के लिए लाईसेन्स निर्गत किये जायेगें। उन्होने कहा कि जिन क्षेत्रों कों पूर्णतः प्रतिबन्धित किया गया है जिसमें पल्टन बाजार कोतवाली से घंटाघर, धामावाला बाजार कोतवाली से बाबू गंज आड़त बाजार चैक तक, मोती बाजार, पल्टन बाजार, पुरानी सब्जी मण्डी से हनुमान मन्दिर तक, हनुमान चैक, झण्डा मौहल्ला, रामलीला बाजार, बैण्ड बाजार तक, आनन्द चैक से लक्ष्मण चैक तक, डिस्पेन्सरी रोड का सम्पूर्ण क्षेत्र, घंटाघर से चकराता रोड, चकराता रोड से हनुमान मन्दिर तक, सर्वे चैक से डीएवी कालेज देहरादून जाने वाली रोड करनपुर मुख्य बाजार (भीड़-भाड़ वाला क्षेत्र), समस्त नगर क्षेत्र में संकीर्ण क्षेत्र/ गलिया जहां जनसंख्या का अधिक बाहुल्य है तथा अग्निशमन वाहन (फायर ब्रिगेड का वाटर टैंकर) न पहुच सकता हो, ऐसे क्षेत्रों को प्रतिबन्धित किया गया है।
उन्होने नगर मजिस्टेªट तथा सम्बन्धित क्षेत्र के परगनाधिकारियों को निर्देश दिये कि वे अपने-2 क्षेत्र में अस्थाई पटाकों की दुकानों हेतु क्षेत्र के व्यापारियों के साथ बैठक कर स्थान चयनित करें इस कार्य में सम्बन्धित सी.ओ/ एस.एच.ओ से सहायता लें। उन्होने निर्देश दिये कि अधिकारी यह भी सुनिश्चित कर लें कि भीड़-भाड़ वाले क्षेत्रों, अग्नि के प्रति संवेदनशील स्थानों से 200 मीटर नजदीक तक तथा कच्ची दुकानों हेतु किसी भी दशा में लाईसेंस निर्गत न किये जाये। उन्होने यह भी अवगत कराया कि बिना लाईसेंस के एवं निर्धारित समय सीमा से पहले आतिशबाजी की दुकाने लगाने वाले के विरूद्ध आवश्यक कार्यवाही की जायेगी जिसमें उनका चालान करने साथ ही सामान भी जब्त कर लिया जायेगा। उन्होने व्यापारियों के प्रतिनिधिमंडल के पदाधिकारियों से भी अलग से व्यापारियों के साथ के साथ बैठक कर प्रशासन के दिशा निर्देशों को सभी से साझा करने तथा आवश्यक समन्वय स्थापित करने का आग्रह किया। उन्होने दुकानों पर चार से पांच फीट का बफर एरिया छोड़ने फायर इक्विपमेंट यंत्र लगाने तथा पटाकों की दुकाने जहां तक सम्भव हो खुले व चैड़े स्थानों पर भी लगवाने के निर्देश दिये। उन्होने अधिकारियों को व्यापारियों से पटाके की दुकोन लगाने के लिए दस तारीख से आवेदन मांगने तथा 15 तारीख के पश्चात तुरन्त लाईसेंस देने की प्रक्रिया शुरू करने के निर्देश दिये। उन्होने व्यापारियों से आवेदन पत्र में स्पष्ट स्थान, नजरी नक्शा एक आई.डी, 2 पासपोर्ट साईज फोटो आवेदन पत्र के साथ प्रेषित करने को कहा तथा उन्होने नगर मजिस्टेªट तथा पुलिस विभाग से अवैध/अथवा प्रतिबन्धित क्षेत्र में लगाई गई दुकानों को हटाने के लिए व्यापारियों के किसी प्रतिनिधि को साथ लेकर आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिये। उन्होने जल संस्थान को पानी के विभिन्न स्थानों पर ओवर हेड टैंक तथा अन्य जल स्त्रोतों पर आवश्यक आउटलेट वाल्ब लगवाने के निर्देश दिये ताकि आपात स्थिति में पानी की आपूर्ति सुनिश्चित की जा सके।
बैठक में अपर जिलाधिकारी प्र0 हरबीर सिंह, अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व वीर सिंह बुद्धिवाल, उप जिलाधिकारी सदर स्वाति भदौरिया, एस.परी ग्रामीण स्वेता चैबे, नगर मजिस्टेªट सी.एस मर्तोलिया, महानगर बीजेपी अध्यक्ष उमेश अग्रवाल, व्यापार मण्डल अध्यक्ष विपिन नागलिया सहित सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *