धर्मनगरी से शिवभक्त तो चले गए, लेकिन छोड़ गए 2400 मीट्रिक टन गंदगी

हरिद्वार : कांवड़ मेला संपन्न हो गया है लेकिन शिवभक्तों के जाने के बाद हरिद्वार की आबोहवा पूरी तरह से बदल गई है। चारों तरफ गंदगी का अंबार लगा है और आने वाले यात्रियों के साथ-साथ स्थानीय निवासियों को भी काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। आलम ये है कि तमाम गंगा घाटों पर गंदगी के ढेर जमा हो गए हैं।

2400 मीट्रिक टन गंदगी छोड़ गए

गंगाजल लेकर लौटे करीब चार करोड़ कांवड़िए 2400  छोड़ गए। इस गंदगी को साफ करने में नगर निगम को कम से एक सप्ताह लगेगा। वहीं, दुर्गंध से पूरा शहर बेहाल है। लोगों को नाक पर रूमाल रखकर जाना पड़ रहा है।

10 जुलाई को शुरू हुई थी कांवड़ यात्रा

10 जुलाई से कांवड़ यात्रा शुरू हुई थी। इस दौरान कांवड़ियों ने खाद्य पदार्थ, प्लास्टिक की बोतल, पॉलीथिन, कपड़े, चप्पल आदि सामान कूड़ेदान में डालने के बजाय सड़क एवं गंगा घाटों पर ही फेंक दिया। हरकी पैड़ी, मालवीय घाट, सुभाष घाट, महिला घाट, रोड़ी बेलवाला, पंतद्वीप, कनखल, भूपतवाला, ऋषिकुल मैदान, बैरागी कैंप आदि क्षेत्रों में जगह-जगह शौच करने के चलते दुर्गंध का आलम है। इसके चलते राहगीरों के लिए यहां से निकलना मुश्किल हो रहा है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

डीएम सविन बंसल ने 13 किलोमीटर पैदल चलकर सुनी ग्रामीणों की समस्याएं

Mon Jul 24 , 2017
अल्मोड़ा : जिलाधिकारी सबिन बंसल ने 13 किलोमीटर पैदल चलकर न सिर्फ अधिकारियों की सांसें फूला दी बल्कि दुर्गम रास्तों से गांव पहुंचकर ग्रामीणों की समस्या सुनकर मौके पर ही उसका समाधान भी किया। जिलाधिकारी सविन बंसल ने भैंसियाछाना विकासखंड के दूरस्थ गांवों का पैदल भ्रमण कर जन समस्याएं सुनीं। उन्होंने […]
%d bloggers like this: