देश में पहली बार: सिर से जुड़े बच्चों को अलग करने की सर्जरी सफल, आईसीयू में शिफ…

0

सिर से जुड़े ट्विन बेबीज को अलग करने के लिए एम्स में की गई सर्जरी सफल हुई है। ओडिशा के दो भाई जागा और बलिया के सिर अलग करने के मकसद से एम्स में सोमवार को दोनों की सर्जरी शुरू हुई थी। यह पहला मौका है, जब भारत में इस प्रकार की सर्जरी को अंजाम दिया गया है। 24 घंटे से ज्यादा चली इस सर्जरी में डॉक्टरों ने सफलतापूर्वक दोनों के दिमाग को एक-दूसरे से अलग कर दिया। सर्जरी के बाद दोनों भाइयों को आईसीयू में शिफ्ट कर दिया गया है।
इस सर्जरी में डॉक्टरों को इनके दिमाग अलग करने के अलावा ब्लड सर्क्युलेशन के लिए अलग काम करना था। इससे पहले दोनों बच्चों के दिमाग में ब्लड सर्क्युलेशन एक ही रास्ते से होता था। यह सर्जरी सोमवार को सुबह 9 बजे शुरू हुई थी, जो मंगलवार सुबह 4.45 बजे तक चली। करीब 20 विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम इस सर्जरी का हिस्सा बनी। इसमें न्यूरोलॉजी, न्यूरो-अनीस्थीसिया और प्लास्टिक सर्जरी विभाग के डॉक्टर शामिल थे। इसके अलावा इस सर्जरी को सफल बनाने के लिए जापान से भी विशेष डॉक्टर को बुलाया गया था।
सूत्रों के अनुसार, अब दोनों भाइयों के सिर सफलतापूर्वक अलग-अलग किए जा चुके हैं और इस प्रक्रिया को पूरा करने के लिए अक्टूबर या नवंबर में एक और सर्जरी की जाएगी। तब तक जागा और बलिया डॉक्टरों की देखरेख में ही रहेंगे।
अब तक दुनिया भर में ऐसे करीब 50 जुड़वा बच्चों की सर्जरी की गई है, जिनके सिर आपस में जुड़े हुए थे। इनमें से कुछ ही जीवित रह पाए। डॉक्टरों के मुताबिक, ‘अगर दोनों में से एक का सिर भी सफलतापूर्वक अलग कर दिया जाए, तो वह सामान्य जीवन जी सकता है। यह एक बड़ी उपलब्धि होगी।’ एम्स के डॉक्टरों ने कहा, ‘वह उम्मीद कर रहे हैं कि सर्जरी के बाद दोनों भाई ठीक होंगे, ताकि उनकी अगली सर्जरी भी जल्दी की जा सके। अभी तक दोनों भाई दिमाग के महत्वपूर्ण हिस्से को मिलकर साझा करते थे।’

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.