नोटबंदी से खुलेगी तरक्क़ी की राह
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी द्वारा हाल ही में एक हजार और पांच सौ रूपये के नोट बंद करने की घोषणा की गई,प्रधानमंत्री जी द्वारा काले धन के खिलाफ़ यह बड़ा ही ऐतिहासिक कदम माना जा रहा है , हालाँकि यह कदम पूर्व में कांग्रेस द्वारा भी उठाया गया था,लेकिन अपनी हैसियत के अनुसार उन्होंनें 25 और 50  पैसे के सिक्के बंद करवाए थे,मोदी जी के इस कदम से देश का कालाधन सामनें आएगा ग़ौरतलब  है कि मोदी जी के इस कदम से आम जनता को भी कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है, हालांकि इसका सबसे बड़ा नुकसान जमाखोरों ,कालाबजारी और आतंकवाद आदि करने वालों पे पड़ेगा, इसलिए मेरा मानना यह है कि आम जनता को परेशानियों को नजरअदांज करते हुए मोदी जी के इस ऐतिहासिक फैसले का स्वागत एवं सहयोग करना चाहिए, क्योंकि मोदी जी द्वारा यह कदम आतंकवाद कालाबजारी आदि  समस्याओं से देशवासियों को निज़ात दिलाना मात्र है ,पर  इसमें सवाल उठाए जा रहें है कि बढ़े नोट जब बंद ही करने थे तो फिर जारी ही क्यों किए जा रहें हैं
हाँ यह  बात सच है, कि बड़े नोट से कालाधन ,कालाबजारी आदि को बढ़ावा मिलता है, लेकिन हम इस बात को भी नजरअंदाज नहीं कर सकते कि मोदी जी द्वारा यह फैसला बढ़े सोचसमझ के लिए गया है, जो उन्होंने प्रधानमंत्री बनने के बाद यह सकंल्प लिया था कि कालेधन की समस्या को  देश से निकाल देगें,जिसके लिए वह लगभग दो साल से कार्य कर रहें हैं
अंतः मैं मोदी जी के इस नोटबंदी के कदम  की सराहना करती करती हूँ,मोदी जी ने पूरे देश  को हिला दिया है, जिसका सबसे बड़ा झटका कालाधन रखने वालों को लगा है, आज यह परिस्थिति है, कि अमीरों की स्थिति गरीबों से बत्तर है।

आरती
बी.ए (मॉस कम्युनिकेशन)
 

                                            

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *