अपनी संस्कृति के संरक्षण के लिए राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी ने उठाया कदम….

भगवान् सिंह

             

 

सांसद बलूनी द्वारा लिखा गया पत्र

              पौड़ी- उत्तराखंड से राज्यसभा सांसद एवं भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय मीडिया प्रमुख श्री अनिल बलूनी ने जिला अधिकारी पौड़ी को पत्र लिखकर कोटद्वार की मतदाता सूची से उनका नाम उनके पैतृक ग्राम नकोट, कंडवालस्यूं, विकासखंड कोट, पौड़ी गढ़वाल स्थानांतरित करने का अनुरोध किया है।
श्री बलूनी ने कहा कि शिक्षा और रोजगार के कारण भारी संख्या में उत्तराखंड से पलायन हुआ है। धीरे -धीरे गांव से प्रवासियों के संबंध खत्म हुए हैं, जिस कारण राज्य की संस्कृति रीति -रिवाज, बोली -भाषा भी प्रभावित हुई है जिसका संरक्षण आवश्यक है।

            सांसद बलूनी ने कहा कि उन्होंने स्वयं अनुभव किया कि पलायन द्वारा शिक्षा, रोजगार तो प्राप्त कर सकते हैं, किंतु अपनी जड़ों से जुड़े रहने की कोशिश प्रत्येक प्रवासियों को करनी चाहिए ताकि हमारी भाषा और संस्कृति, रीति रिवाज, त्योहार संरक्षित रह सकें।
           

सांसद बलूनी के साथ ज्ञानदीप चौधरी

           श्री बलूनी ने कहा कि गांव से जुड़कर ही व्यावहारिक रूप से हम परिस्थितियों को समझ सकते हैं। उन्होंने कहा कि पलायन पर कार्य करने वाली संस्थाओं और व्यक्तियों से जुड़कर वे इस अभियान को आगे बढाएंगे।
                                                                                                   सांसद बलूनी ने कहा कि उन्होंने निर्जन बौरगांव को गोद लेकर अनुभव किया कि बहुत समृद्ध विरासत की हम लोगों ने उपेक्षा की है। हमने पलायन को विकास का पर्याय मान लिया है। अगर हर प्रवासी अपने गांव के विकास की चिंता करें और गांव तथा सरकार के बीच सेतु का कार्य करें तो निसंदेह हम अपनी देवभूमि को भी संवार पाएंगे और अपनी भाषा, संस्कृति और रीति-रिवाजों को सहेज पाएंगे।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

विश्व पर्यावरण दिवस पर सरकारी कार्यालयों में पर्यावरण संरक्षण व स्वच्छता जागरूकता कार्य आयोजित

Wed Jun 5 , 2019
 रिपोर्ट- बच्चन खान                                       रूद्रपुर-  विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर आज जनपद सहित सभी तहसीलों व विकास खण्डों में पर्यावरण संरक्षण व स्वच्छता के प्रति लोगों को जागरूक किया गया। जनपद में मुख्य […]
%d bloggers like this: