नौकरी दिलाने वाला कोर्स लाने की तैयारी में इग्नू

0

नौकरी दिलाने वाला कोर्स लाने की तैयारी में इग्नू

देहरादून,उच्च शिक्षा के बाद पढ़ाई और रोजगार के लिए भटक रहे युवाओं के लिए अच्छी खबर है। दुनिया की सबसे बड़ी यूनिवर्सिटी इग्नू ने उत्तराखंड की भौगौलिक परिस्थितियों को देखते हुए व्यावसायिक पाठ्यक्रमों पर फोकस करना शुरु कर दिया है। जल्द ही पूरे उत्तराखंड में इन कोर्सों का व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाएगा ।विगत कुछ वर्षों से इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विवि के व्यावसायिक पाठ्यक्रमों को करने के बाद सैकड़ों छात्र छात्राओं को नौकरी हासिल हुई।

उत्तराखंड में ग्रेजुएट और पोस्टग्रेजुएट स्तर पर सीटों की सीमित संख्या के बाद युवाओं का रुझान इग्नू की ओर बढ़ा है। प्रदेश के सबसे बड़े काॅलेज में प्रवेश प्रक्रिया खत्म हो चुकी है। हाईकोर्ट के आदेश के बाद डीएवी पीजी काॅलेज सहित प्रदेश के सभी महाविद्यालयों में छात्र छात्राओं की संख्या सीमित कर दी गई थी जिसके बाद हजारों युवाओं के सामने उच्च शिक्षा की पढ़ाई का संकट पैदा हो गया। संकट की इस घड़ी में युवाओं का सहारा बना इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विवि, जहां से व्यावसायिक शिक्षा ग्रहण कर ना सिपर्फ युवा उच्च शिक्षा की डिग्री हासिल कर रहे हैं बल्कि नौकरी भी युवाओं को हासिल हो रही है। डीएवी पीजी कालेज में संचालित इग्नू केन्द्र से व्यावसायिक कोर्सों में तो जाॅब प्लेसमेंट शत प्रतिशत रहा। इस वर्ष डीएवी कालेज के इग्नू सेंटर में करीब 1600 छात्र छात्राओं ने दाखिला लिया है। केन्द्र के समन्वयक ने बताया कि व्यावसायिक कोर्सों की ओर युवा कापफी आकर्षित हो रहे हैं. पूरे प्रदेश में इस वर्ष करीब 5 हजार छात्र-छात्राओं ने इग्नू में दाखिला लिया है। डीएवी पीजी कालेज में इग्नू सेंटर के कोआर्डिनेटर डाॅ एचएस रन्धावा बताते है कि इग्नू के कोर्स ना सिपर्फ ज्ञान बढ़ाते हैं साथ ही नौकरियों का विकल्प युवाओं को देते हैं. वे कहते हैं कि इग्नू के कई कोर्सों में जाॅब प्लेसमेंट शत प्रतिशत है।

देहरादून स्थित क्षेत्रीय कार्यालय की निदेशक ने बताया कि उत्तराखंड की भौगोलिक परिस्थिति को देखते हुए इग्नू ने कई कोर्स संचालित किये जिनमें युवाओं ने बड़ी संख्या में दाखिला लिया है. उन्होंने बताया कि इन कोर्सेज को पढ़ने के बाद छात्र-छात्राओं को नौकरी भी मिल जाती है। इग्नू के क्षेत्रीय कार्यालय का जिम्मा देख रही आशा शर्मा बताती है कि व्यावसायिक पाठयक्रमों में भी इग्नू ने सभी विवि को पीछे छोड़ दिया है और इन कोर्सों की सबसे बड़ी खासियत ये है कि आप नौकरी, शिक्षा और अन्य कार्यों के साथ भी इग्नू के सर्टिफिकेट और डिप्लोमा कोर्स कर सकते हैं। इन कोर्सों के अलावा भी रुरल डेवलपमेंट, न्यूट्रीशन, मेडिकल हेल्थ मैनेजमेंट, सोशल वर्क, एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग, वूमन एम्पावरमेंट एंड डेवलपमेंट, एग्रीकल्चर पालिसी और अर्बन प्लानिंग एंड डेवलपमेंट कोर्स में युवाओं के लिए नौकरियों के नए द्वार खोले हैं। प्रदेश में बढ़ती बेरोजगारी और विश्वविद्यालय और काॅलेज में व्यावसायिक पाठ्यक्रम की कमी भी एक मुख्य कारण है जिससे युवाओं की पहली पसन्द इग्नू बनता जा रहा है। इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय ने पहाड़ की भौगोलिक परिस्थितियों को देखते हुए इन कोर्सेज को और विस्तार करने की योजना तैयार कर ली है।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.