BREAKING – रोहित शेखर तिवारी का निधन !

हृदय गति रुकने से मौत हो गई ।
उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री एनडी तिवारी के बेटे रोहित शेखर का दिल्ली के मैक्स अस्पताल में निधन हो गया । उन्हें मैक्स हॉस्पिटल ले जाया गया था, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। 

बता दें कि पिछले साल अप्रैल में ही रोहित की सगाई मध्यप्रदेश की अपूर्वा शुक्ला से हुई थी, मई में रोहित और अपूर्वा परिणय सूत्र में बंध गए थे।

बता दें कि रोहित ने जनवरी 2017 में भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ली थी। रोहित एनडी तिवारी और उज्ज्वला शर्मा की जैविक (बायोलॉजिकल) संतान थे।

एनडी तिवारी प्यार से रोहित को गुंजनू बुलाते थे। यह बात रोहित ने खुद बताई थी। दोनों के बीच चल रहा कानूनी विवाद मार्च 214 में खत्म हुआ था, जिसके बाद रोहित अपने पिता के साथ ही रह रहे थे। पूर्व मुख्यमंत्री नारायण दत्त तिवारी का लंबी बीमारी के बाद पिछले साल 18 अक्तूबर को निधन हो गया था।
साल 2008 में रोहित एनडी तिवारी के खिलाफ अदालत पहुंचे थे। रोहित ने दावा किया था कि वह पूर्व कांग्रेस नेता और अपनी मां उज्ज्वला शर्मा के बेटे हैं। एनडी तिवारी ने दिल्ली हाईकोर्ट में इस मामले को खारिज करने की गुहार भी लगाई थी। हालांकि, कोर्ट ने 2010 में तिवारी की इस गुहार को खारिज कर दिया था।
23 दिसंबर 2010 को हाईकोर्ट ने सच्चाई जानने के लिए दोनों को डीएनए टेस्ट कराने का आदेश दिया था। हालांकि, एनडी तिवारी ने इसके खिलाफ भी खूब हाथ-पांव मारे थे और सुप्रीम कोर्ट भी गए थे। लेकिन, वहां से भी उन्हें खाली हाथ ही लौटना पड़ा था।
कोर्ट के आदेश के बाद 29 मई 2011 को एनडी तिवारी ने डीएनए जांच के लिए खून दिया था। इसकी रिपोर्ट 27 जुलाई 2012 को दिल्ली हाईकोर्ट में खोली गई। हालांकि, इस पर भी एनडी तिवारी ने अपील की थी कि इस रिपोर्ट को सार्वजनिक न किया जाए। लेकिन, कोर्ट ने उनकी इस अपील को नजरअंदाज कर दिया था। रिपोर्ट में सामने आया था कि रोहित का दावा सही था और एनडी तिवारी रोहित के जैविक पिता थे।

बीते साल 18 अक्टूबर को लंबी बीमारी के बाद एनडी तिवारी का निधन हो गया था।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

फिर निकला चुनावी जिन्न बोतल में बंद होने को !

Tue Apr 16 , 2019
राहुल गांधी और स्मृति ईरानी की शिक्षा का मुद्दा आपस में बहुत टकराता है। नौकरी में भले ही आपकी पढ़ाई मायने रखती है, लेकिन राजनीति में प्रगति करने के लिए सर्टिफकेट नहीं काबिलियत मायने रखती है। और ये मायने रखता है कि आपमें कितना दम है, और वही करियर का […]
%d bloggers like this: