भारतीय अर्थव्यवस्था मजबूत होने की दिशा में बढ़ रही है:सीआईआई अध्यक्ष नौशाद फोब्र्स

सीआईआई के अध्यक्ष नौशाद फोब्र्स ने कहा कि हाल ही में जारी हुए जीडीपी आंकड़ें बताते हैं वित्तीय वर्ष २०१७ में जीडीपी में बढ़ोत्तरी हो रही है और यह प्रदर्शित कर रहें हैं कि इसके ७ प्रतिशत की दर से मजबूत रहेगी। डा. नौशाद फोब्र्स ने कहा कि विमुद्रीकरण का प्रभाव अस्थाई दिखाई दे रहा है और अब देश तेजी से विकास के मार्ग पर बढ़ रहा है। आगामी तिमाहियों में विकास और तेजी से होने केसंकेत मिल रहे हैं। अधिकतर बडे व्यापारियों ने अपनी सप्लाई चेन में भुगतान को कैशलैस करने की दिशा मेंं काम किया है और यह व्यवस्था शीघ्र ही हाई एफिसिएंसी व प्राडक्टिविटी में बढ़त के रूप में दिखाई देगी। उन्होंने कहा कि आज के समय में डिजिटल व कैशलैस पेमेंट अनिवार्य हो गई है। शहरों के साथ ही गांवों में भी अब कैशलैस होने की दिशा में कदम उठाए जा रहे हैं। आंकड़े बताते हैं जहां कुछ समय पहले तक बिक्री प्रभावित हुई थी वहींं अब इसमें दोबारा तेजी आनी आरंभ हो गई है। अन्य क्षेत्र जो विमुद्रीकरण के कारण प्रभावित हुआ था वह है कृषि क्षेत्र। रबि की फसल के बारे मेंं चिंता व्यक्त की जा रही थी। फसल कटने का समय आ रहा है। उन्होंने कहा कि आंकड़ें बता रहें कि रबि की फसल इस वर्ष अभूतपूर्व वृद्घि की गवाह बनेगी क्योंकि मॉनसून इस बार अच्छा है। ग्रामीण मांग तेजी से बढ़ रही है और ऐसे में कंपनी इस क्षेत्र में और आगे बढऩे का प्रयास कर रही है ताकि वहां खपत को बढ़ाया जा सके। फोब्र्स ने कहा कि सरकार ने निवेश के लिहाज से एक सकारात्मक माहौल तैयार किया है। बजट में पब्लिक इनवेस्टमेंट क्षेत्र में पूंजी की व्यवस्था की दिशा में काम किया है तथा लघु व मध्यम उद्योगों को टैक्स में छूट दी है। जीएसटी को लागू करने की दिशा में भी पूर्व निर्धारित शैड्यूल के अनुसार काम किया जा रहा है। विमुद्रीकरण और इसके प्रभावों के बाद अब यह अहम हो गया है कि हम कई कल्याणकारी नीतियों जैसे व्यापार करने को आसान बनाने, मेक इन इंडिया और जीएसटी की दिशा में काम करें जो देश के विकास को अभूतपूर्व तेजी से बढ़ा सकती हैं और विकास का आंकडा दोगुना होकर दहाई अंकों में पहुंच जाए। अर्थव्यवस्था तेजी से बढ़त की ओर अग्रसर है कुछ बाहरी सहयोग के माध्यम से वित्तीय वर्ष २०१८ तक बढ़त इस वर्ष से कहीं अधिक संभव हो सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *