बैकलॉग बेरोजगारों का अनिश्चितकालीन धरना जारी

बैकलॉग बेरोजगारों का अनिश्चितकालीन धरना जारी

देहरादून,बैकलाॅग के अंतर्गत रिक्त पड़े पदों पर भर्ती किये जाने की मांग को लेकर आरक्षित वर्ग के बेरोजगारों ने प्रदेश सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए अपने अनिश्चितकालीन धरने को जारी रखा और आंदोलन तेज करने की चेतावनी दी। उनका कहना है कि सरकार की ओर से अधिकारियों को निर्देश दिये जाने के बाद भी सुनवाई नहीं हो पाई है, जो चिंता का विषय है। आज तक सरकार की ओर से किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही नहीं की गई है।
यहां परेड ग्राउंड स्थित धरना स्थल में अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, ओबीसी बैकलाॅग संघर्ष समिति से जुड़े हुए बेरोजगार डीबीएस कालेज के पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष कमलेश भटट के नेतृत्व में इकट्ठा हुए और वहां पर उन्होंने प्रदेश सरकार के खिलापफ अपने आंदोलन व अनिश्चितकालीन धरने को जारी रखते हुए प्रदर्शन किया। उनका कहना है कि लगातार आश्वासन दिये जाने के बाद भी आज तक किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही नहीं की गई है,जबकि सरकार द्वारा तीन बार शासनादेश जारी किया गया लेकिन उसके बाद भी नतीजा शून्य ही साबित हुआ है। प्रदेश सरकार द्वारा कैबिनेट में पन्द्रह हजार पदों को भरने का प्रस्ताव पारित किया गया था जबकि अभी तक न तो शासनादेश जारी किया गया है और न ही विज्ञप्ति जारी की गई है। शासनादेश व विज्ञप्ति जारी न होने के कारण वर्तमान में आरक्षित वर्ग के बेरोजगारों में रोष बना हुआ है और वह आंदोलनरत है। ग़ौरतलब है कि कई बार आश्वासन दिये गये लेकिन आज तक बैकलाॅग के पदों पर किसी भी प्रकार की कोई भर्ती नहीं की गई है, जिससे बेरोजगारों में रोष बना हुआ है। इस अवसर पर बेरोजगारों का कहना है कि एससी, एसटी, ओबीसी के आरक्षित वर्ग के बैकलाॅग पदों को विभिन्न विभागों में रिक्त लगभग चालीस हजार पदों की विज्ञप्ति जारी करने की मांग को लेकर आंदोलित है लेकिन आज तक किसी भी आरक्षित वर्ग के मंत्री व विधायकों ने उनकी सुध नहीं ली है। इस अवसर पर वक्ताओं ने कहा कि लंबे समय से उनकी मांगों को अनदेखा किया जा रहा है और मात्र कोरे आश्वासन दिये गये है, सरकार भी इस दिशा में किसी भी प्रकार की कार्यवाही आज तक नहीं कर पाई है जो चिंता का विषय है।
वर्तमान में उत्तराखंड के विभिन्न विभागों में एससी, एसटी, ओबीसी के चालीस हजार से अधिक पद रिक्त है और इन रिक्त पदों को बैकलाॅग के आधार पर भरे जाने की आवश्यकता है लेकिन लगातार संघर्ष करने के बाद भी इस ओर अभी तक किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही नहीं की गई है जिससे शिक्षित बेरोजगार वर्ग में निराशा का भाव पैदा हो रहा है। इस अवसर पर कमलेश भटट, लेखराज, सुरेश पंवार, धरमवीर सिंह, शूरवीर शर्मा, मनोहर, अमर चन्द, सुनील चैहान, सुरेन्द्र चैहान, सुरेन्द्र जोशी, शिव राम शर्मा, सज्जू आर्य, स्वराज सिंह, केवल राम, सुल्तान राणा, चतर भारती, रविन्द्र सिंह लटान, रमेश चन्द्र, खुशी राम, प्रवेश, खजान सिंह, हिमांशु चैहान, देवेन्द्र रावत, केवल डोभाल आदि बेरोजगार मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *