अहमदाबाद शहर विश्व धरोहर में शामिल

यूनेस्को की विश्व धरोहरों की सूचि में भारत के अहमदाबाद शहर को भी शामिल किया है। अब अहमदाबाद भी विएना, पेरिस, ब्रुसेल्स, रोम और एडिनबर्ग की श्रेणी में शामिल हो गया है। गौरतलब है कि पोलेंड में हुई यूनेस्को की 41वीं विश्व धरोहर समिति की बैठक में यह फैसला किया गया। समिति ने माना है कि ऐतिहासिक महत्व की जगहों के संरक्षण का काम यहां बेहतरीन है। भारत के किसी शहर को यूनेस्को ने पहली बार चयन कर इस श्रेणी में शामिल किया है माना जाता है कि दीवारों से घिरे इस शहर की खोज अहमद शाह ने लगभग छह सौ साल पहले की थी। यहां पर 26 ऐसे ढांचे हैं, जिनका संरक्षण पुरातत्व विभाग कर रही है। प्राचीन पद्धति से बने मकान व तंग गलियां शहर के प्राचीन होने का एहसास कराती हैं। महात्मा गांधी भी 1915 से 1930 तक यहां रहे थे। यह बात शहर को विशिष्टता का एहसास कराती है। जाने माने वास्तुविद एजीके मेनन का कहना है कि इससे भारत के और शहरों को भी प्रेरणा मिलेगी। उन्होंने उम्मीद जताई कि सरकार व प्रशासन इस उपलब्धि को बोझ नहीं मानेगा।

गौरतलब है की दिल्ली भी यूनेस्को की सूची में शामिल होने के लिए रेस में था, लेकिन केंद्र सरकार ने आखिरी वक्त में अपने दावे को वापस ले लिया। दावा वापस लेने के पीछे माना जा रहा था कि विश्व धरोहरों में शामिल होते ही शहरी विकास यहाँ ठप हो जाता जिस कारण सरकार ने अपना दावा अंतिम वक्त में वापस लेना ही बेहतर समझा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *