उत्तराखंड में एकीकृत ग्रामीण विकास योजना कार्यक्रम का शुभारंभ

उत्तराखंड में एकीकृत ग्रामीण विकास योजना कार्यक्रम का शुभारंभ

देहरादून/ बागेश्वर। जिलाधिकारी बी.एस. मनराल और हंस फाउंडेशन के सीईओ ले. जन. मेहता और डा. जी.वी. राव की अध्यक्षता में उत्तराखंड के जिला बागेश्वर के कपकोट में आज एकीकृत ग्रामीण विकास योजना कार्यक्रम की विस्तार से घोषणा की गई। इस सभा में मुख्य विकास अधिकारी एस.एस.एस.पांगती के साथ ही जिले के प्रमुख विभागीय अधिकारी और हंस फाउंडेशन के सहयोगी एनजीओ मौजूद थे। यह पहल हंस पफाउंडेशन द्वारा पहले शुरू किए गए यूके 2020 कैम्पेन का हिस्सा है। इस परियोजना में कपकोट ब्लाॅक के सात ग्राम पंचायत में विकास कार्य किया जाएगा।
हंस पफाउंडेशन के सीईओ ले. जन. एस.एम. मेहता ने कहा कि हम प्रत्येक व्यक्ति के सुलभ विकास में विश्वास रखते हैं। एकीकृत ग्रामीण विकास योजना कार्यक्रम एक अनोखा चरण है जो उत्तराखंड के अत्यंत दूरदराज स्थित गांव समूहों के सतत विकास के लिए समाधान प्रदान करेगा। स्थानीय सरकार के निरंतर सहयोग हमारे सहयोगी और समुदाय के सहयोग के साथ हम जिले म सशक्त और दोहराए जाने योग्य लंबी अवधि के परिवर्तन लाने में समर्थ होंगे। जमीन से जुड़े संगठनों के साथ काम करने के अपने दर्शन के अनुरूप द हंस फाउंडेशन विशिष्ट क्षेत्रों में कार्य करने के लिए संभावित साझेदारी के लिए एनजीओ का चयन काफी सोच समझ कर करता है। वर्तमान में मौजूद संगठन अपने कार्य और विशेषज्ञता के आधार पर पहचाने जाते हैं।
उनका कहना है कि हाल ही में क्षेत्र के भागीदारी मूल्यांकन के लिए समुदाय के सदस्यों द्वारा 20-30 किलोमीटर के दायरे में 40-50बस्तियों के खंड में प्राथमिक जानकारी और क्षेत्र वार आंकड़े एकत्र करने की शुरुआत की गई। इस परियोजना का प्रथम चरण 12-18 महीनों का होगा जिसके अन्तर्गत शुरुआत में स्वच्छ पीने के पानी और बिजलीपर, उसके बाद रोजगार से संबंधित क्षेत्र जैसे कृषि, लघु उघोग, पर्यटन पर कार्य किया जाएगा। शिक्षा, स्वास्थ्य और स्वच्छता जैसे प्राथमिक क्षेत्रों के साथ ही साथ दस से अधिक क्षेत्र भागीदार के साथ संपर्क में क्षमता निर्माण शामिल होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *